2000 के नोट बंद होने पर बसपा सुप्रीमो ने क्या दी प्रतिक्रिया, जानिए पूरी खबर। वर्तमान समाचार

बसपा सुप्रीमो मायावती ने आरबीआई के दो हजार के नोट वापस लेने के फैसला लेने के मामले में पहली बार अपनी प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि मायावती ने ट्वीट कर कहा कि, ‘करेन्सी व उसकी विश्व बाजार में कीमत का सम्बंध देश का हित व प्रतिष्ठा से जुड़ा होने के कारण इसमें जल्दी-जल्दी बदलाव करना जनहित को सीधे तौर पर प्रभावित करता है। इसीलिए ऐसा करने से पहले इसके प्रभाव व परिणाम पर समुचित अध्ययन जरुर कर लेना चाहिए। सरकार को इस बात पर भी जरूर ध्यान देना चाहिए।

दो हजार के नोट बंद किया जाना कालाधन पर रोक लगाने के उद्देश से किया गया एक कार्या का ही हिस्सा है। जिसके बाद लोग इसे खपाने की जुगत में लग गए हैं। जिनके बाद अधिक नोट हैं वे बैंकों में जमा तो कर रहे ही हैं। साथ ही सराफा बाजार व पेट्रोल पंप पर भी इसे खपाया जा रहा है। एलडीएम प्रभात सिन्हा ने बताया कि ग्राहकों में तनाव जैसी स्थिति बिल्कुल नहीं है। सामान्य तरीके लोग बैंक में नोट बदल व जमा कर रहे हैं। कारण कि दो हजार के नोट बहुत कम ही है। प्राइवेट बैंकों में थोड़ी अधिक भीड़ थी। जानकार बताते हैं कि भले आरबीआई ने कहा है कि अपने बैंक खाते में जितना चाहे उतना दो हजार के नोट जमा कर सकते है लेकिन उनती ह्वाइट मनी होनी चाहिए। इसके बाद ही जमा करना चाहिए वरना आयकर विभाग के नजर में भी आ सकते हैं। ऐसा होने से सरकार को ब्लैक मनी पर अंकुश लगाने में सफलता मिलेगी। अभी से ब्लैक मनी रखने वालों के फोन वितीय सलाहकारों के पास आने शुरू हो गए है।    

Show More

Related Articles

Back to top button