उत्तर प्रदेश: मुख्तार अंसारी पर कोर्ट ने सुनाया बड़ा फैसला, जानिए क्या है पूरा मामला। वर्तमान समाचार

गाजिपुर: माफिया डौन मुख्तार अंसारी पर गाजियाबाद की एमपी, एमएलए कोर्ट ने बड़ा फैसला सुनाया है। कोर्ट ने मुख्तार अंसारी को दोषी करार देते हुए 10 वर्षों की सजा सुनाई है, इसके अलावा 5 लाख रुपयों का जुर्माना भी लगाया है। इस पेशी में मुख्तार अंसारी वीडियो कॉफ्रैंसिंग के जरिए जुड़ा था। आज सुबह से ही इस मामले पर सुनवाई को लेकर के बैरीकेडिंग कर अवागमन को रोक दिया गया था और तो और पीएसी और पुलिस बल को भी तैनात कर दिया गया था। वहीं दूसरी ओर गाजिपुर सांसद अफजाल अंसारी भी इस फैसले की सुनवाई को लेकर सुबह 10:45 मिनट पर न्यायलय पहुंच गए थे।

आखिर क्या है मामला?   

उत्तर प्रदेश के गाजिपुर स्थित एमपी-एमएलए कोर्ट में चल रहे इस मामले में बीते 15 अप्रैल को फैसला आना था। लेकिन मुख्य न्यायाधीश के छुट्टी पर होने के कारण यह फैसला तब नहीं आ पाया था। दोबारा इस मामले पर सुनवाई कर फैसला सुनाने के लिए तारीख 29 अप्रैल निहित की गई थी। दरहसल, यह पूरी सुनवाई वर्ष 2007 के एक की है, इस मामले में बीते एक अप्रैल को बहस और सुनवाई पूरी कर ली गयी थी और 15 अप्रैल को फैसला होना था। अफजाल अंसारी, मुख्तार अंसारी के खिलाफ गैंगस्टर एक्ट के तहत एमपी/एमएलए कोर्ट में चल रहे इस केस में बीजेपी विधायक कृष्णानंद राय हत्याकांड केस गैंग चार्ट में शामिल है। जबकि नन्दकिशोर रूंगटा के अपहरण और हत्या का केस भी गैंग चार्ट में शामिल है। 29 नवंबर 2005 को गाजिपुर के भांवरकोल थाना अंतर्गत विधायक कृष्णानंद राय समेत सात अन्य की एके-47 जैसे अत्याधुनिक हथियारों से गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। इसी दरमियां जब शवों को पोस्टमोर्टम के लिए बीएचयू लाया जा रहा था तब विधायक के समर्थकों ने जगह-जगह तोड़फोड़ और हिंसा को अंजाम दिया था।

Show More

Related Articles

Back to top button