उत्तर प्रदेश: कानपुर एयरपोर्ट के नए टर्मिनल का कार्य पूरा, जानिए क्या हैं सुविधाएं। वर्तमान समाचार

उत्तर प्रदेश के औद्दोगिक नगर कानपुर एयरपोर्ट नए टर्मिनल का कार्य समाप्त हो चुका है। आज मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और केंद्रीय नागरिक उड्डयन मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया इसका उद्घाटन करेंगे। चकेरी एयरपोर्ट से ढाई किमी दूर मवइया में बना यह नया टर्मिनल पुराने एयरपोर्ट से 16 गुना ज्यादा बड़ा है। बता दें कि 1980 के दशक  में शहरियों और उद्यमियों की नए कॉमर्शियल एयरपोर्ट की उठी मांग 43 वर्षों बाद पूरी होने जा रही है। यहां से बड़े शहरों के लिए उड़ानें शुरू होने से लखनऊ के अमौसी एयरपोर्ट पर निर्भरता भी काफी कम होगी। आज दोपहर करीब 12:15 पर मुख्यमंत्री योगी चकेरी एयरपोर्ट पहुंचेंगे, इसके बाद वे नए टर्मिनल पर दोपहर 12:20 बजे से लेकर 1:35 बजे तक वह कार्यक्रम में हिस्सा लेंगे, और दोपहर दो बजे चकेरी एयरपोर्ट से गाजियाबाद के लिए रवाना हो जाएंगे। कार्यक्रम में केंद्रीय नागरिक उड्डयन व सड़क परिवहन और राजमार्ग राज्य मंत्री सेवानिवृत्त जनरल डॉ. वीके सिंह, उत्तर प्रदेश विधान सभा के अध्यक्ष श्री सतीश महाना, उत्तर प्रदेश सरकार में औद्योगिक विकास मंत्री नंद गोपाल गुप्ता ”नंदी”, अकबरपुर के सांसद देवेंद्र सिंह भोले, कानपुर नगर के सांसद सत्यदेव पचौरी और मेयर प्रमिला पांडेय मौजूद रहेंगी।

क्या है नए टर्मिनल पर सुविधाएं।

जानकारी के मुताबिक नया टर्मिनल 6243 वर्गमीटर के क्षेत्र में 150 करोड़ रुपये की लागत से बनाया गया है। यह मौजूदा टर्मिनल से 16 गुना बड़ा है। एप्रन में एक बार में तीन बड़े (ए-321 और बी-327) विमान आ जा सकते हैं। छह एप्रन तक इसे बढ़ाया जा सकता है। इसकी तुलना में पुराने टर्मिनल में एक ही विमान को लाया जा सकता था।  ठंडी के मौसम में उच्चीकृत क्षमता का आईएलएस-2 लगने और एप्रोच लाइटों की वजह से घने कोहरे और रात में कम दृश्यता में भी अब विमान आराम से आ जा सकेंगे। अभी दृश्यता कम होने से उड़ानें निरस्त कर दी जाती हैं। नए टर्मिनल में प्रतीक्षालय में 400 यात्रियों के बैठने की क्षमता है। अभी तक 50 यात्री ही बैठ सकते थे। नए टर्मिनल की पार्किंग में 150 वाहन खड़े हो सकते हैं। दो बसें भी आ सकती हैं। पुराने एयरपोर्ट में 20 वाहनो की ही पार्किंग मुश्किल से होती थी। यात्रियों के लिए त्वरित चेक-इन प्रक्रिया के लिए आठ चेक-इन काउंटर हैं। सामान के आसान रखरखाव और संग्रह की सुविधा के लिए तीन कन्वेयर बेल्ट हैं। इसमें एक प्रस्थान हॉल और दो आगमन हॉल में हैं। 850 वर्ग मीटर में फैला एक बड़ा शॉपिंग हॉल है। इसमें यात्रियों के लिए खरीदारी और खाने पीने के तरह-तरह के भोजन की सुविधा है। दृष्टिबाधित यात्रियों के लिए स्पर्श पथ के प्रावधान किए गए हैं। टर्मिनल भवन की छत डबल इंसुलेटेड धातु से बनी है। इससे अंदर गर्मी और आवाज नहीं आती है। भूजल को रीचार्ज करने के लिए वर्षा जल संचयन, जल उपचार संयंत्र, सीवेज उपचार संयंत्र, 100 किलोवाट क्षमता का सौर ऊर्जा संयंत्र है। ग्रीन बिल्डिंग के लिए इसे जीआरआईएच-4 रेटिंग मिली है।  

Show More

Related Articles

Back to top button