31 सदस्यों की समिति ने बृजभूषण की गिरफ्तारी के लिए तय की अंतिम तारीख। वर्तमान समाचार

प्रदर्शनकारी पहलवानों को सलाह देने वाली 31 सदस्यीय समिति ने रविवार को कहा कि अगर डब्ल्यूएफआई प्रमुख बृजभूषण शरण सिंह को 21 मई तक गिरफ्तार नहीं किया गया तो वह एक महत्वपूर्ण फैसला लेगी। भारतीय किसान यूनियन (बीकेयू) के प्रवक्ता राकेश टिकैत, खाप महम 24 के प्रमुख मेहर सिंह और संक्युत किसान मोर्चा के बलदेव सिंह सिरसा पहलवानों के साथ मंच पर शामिल हुए और मीडिया को संबोधित किया। उन्होंने कहा कि “हमने तय किया कि हर खाप से सदस्य रोज धरना स्थल पर आएंगे। वे दिन में यहां रहेंगे और शाम तक वापस चले जाएंगे, ऐसा ही रोज होगा। उन्होंने कहा, “पहलवानों की समिति विरोध का ध्यान रखेगी और हम बाहर से पहलवानों का समर्थन करते रहेंगे। हमने 21 मई को एक बैठक निर्धारित की है अगर सरकार गिरफ्तारी नहीं करवाती है, तो हम अपनी अगली रणनीति तैयार करेंगे”। अगर कोई आपात स्थिति आती है, और पहलवानों को कोई समस्या होती है, तो पूरा देश उनके साथ खड़ा होता है।” धरना स्थल पर रैपिड एक्शन फोर्स (आरएएफ) की भारी तैनाती की गई है, जिसमें कई खाप नेता और किसान पीड़ित पहलवानों के साथ शामिल हुए हैं। रविवार को ‘महापंचायत’ में पहलवानों की ओर से अगले कदम पर चर्चा के दौरान धोती-कुर्ता पहने और सैकड़ों की संख्या में पगड़ीधारी किसानों को प्रदर्शन स्थल पर देखा गया जो किसान नेताओं के साथ ही आए थे।

पुलिस ने सात महिला पहलवानों के दर्ज किए बयान

दिल्ली पुलिस ने धारा 161 के तहत सात महिला शिकायतकर्ताओं के बयान दर्ज कर लिए हैं।  जबकि आपराधिक प्रक्रिया संहिता सीआरपीसी 164 के तहत मजिस्ट्रेट के सामने बयान दर्ज किया जाना अभी बाकी है। पहलवानों ने भारतीय कुश्ती महासंघ (WFI) के प्रमुख बृज भूषण पर कई महिला पहलवानों के यौन शोषण का आरोप लगाया है और उन्हें हटाने की मांग की है।

Show More

Related Articles

Back to top button