लखनऊ की फेमस डिशेज़।

वैसे तो नवाबों का शहर लखनऊ अपने अदब अंदाज और ऐतिहासिक इमारतों के लिए लोगों के बीच बहुत प्रसिद्ध है, साथ हीं यह कई अन्य चीजों के लिए भी लोगों के दिल और दिमाग में बसा हुआ है। लखनऊ नवाबों की नगरी है, तो यहां का जायका भी नवाबी ही होगा। लखनऊ की एक बात बहुत दिलचस्प है कि यहां पर लोग आपको कुछ भी खिलाएंगे तो वह अदब के साथ खिलाएंगे। लखनऊ में आपको वेज और नॉनवेज दोनों तरह के जायके खाने को मिल जाएंगे। अगर आप चटोरे है या फूड लवर हैं,  तो आपको लखनऊ के प्रसिद्ध फूड का जायका जरूर चखना चाहिए। नवाबों के समय से हीं लखनऊ अपने जायकों के लिए बहुत प्रसिद्ध रहा है। खाने के मामलों को बादशाह यह शहर बच्चे और‌ बुजुर्गों सबको अपनी ओर खींचता है, तो चलिए आज आपको हम इस पोस्ट में बताते हैं कि नवाबों की नगरी लखनऊ में ऐसा क्या मिलता है जिसकी हर कोई तारिफ करते नहीं थकता, तो आइए जानते है।

प्रकाश की मशहूर कुल्फी

Prakash kulfi
फोटो वर्तमान समाचार

लखनऊ का प्रसिद्ध और व्यस्ततम बाजार अमीनाबाद के बीच में मौजूद प्रकाश कुल्फी के नाम से मशहूर यह दुकान आपको कुल्फियों की एक से एक वैरायटी उपलब्ध करवाती है। यहां आसपास में आपको बहुत सारी कुल्फियों की दुकानें मिल जाती है, लेकिन प्रकाश की कुल्फी की बात हीं कुछ ओर है। यहां बनाया जाने वाला कुल्फी फालूदा आपकी आत्मा को तृप्त कर देगा। प्रकाश की कुल्फियों को हाथ से तैयार किया जाता है और बादाम, काजू, पिस्ता से छानने के बाद इसे सर्व किया जाता है। यहां पर शुद्धता का पूरा ध्यान रखने के साथ दुकान की बैठक व्यवस्था भी बहुत हीं अच्छी हैं। आपको एक कुल्फी यहां पर 70 रूपये के आसपास मिल जाती है।

चौक की मक्खन मलाई

Makhan Malai Chowk
फोटोवर्तमान समाचार

मक्खन मलाई जिसे निमिष भी कहा जाता है, यह लखनऊ की एक मशहूर स्वीट डिश हैं। यह एक फूली हुई और‌ सुगंधित मिठाई होती है, जो लखनऊ में सिर्फ सर्दियों के मौसम में हीं मिलती है। लखनऊ में चौक के गोल दरवाजे के पास आपको बहुत सारे मक्खन मलाई के स्टाॅल मिल जायेंगे, जो 50 रूपये में 100 ग्राम की कीमत पर आपको मिल जाएंगे। जब इस मक्खन मलाई को आप मुंह में रखते हैं, तो यह तुरन्त ही आपके मुंह में घुल जाएगी और आप एक अलग स्वाद को महसूस कराते हैं। इसे ताजा मक्खन, चीनी पाउडर, इलाइची पाउडर और केसर रंग के साथ सुखे मेवों से तैयार किया जाता है।

राम आसरे की मलाई गिलौरी

Malai Gilori
फोटोवर्तमान समाचार

लखनऊ की मिठाई का यह अंदाज आपको काफी दिलचस्प और नया लगेगा। अगर आप चौक में है या हजरतगंज की ओर है तो राम आसरे का मलाई गिलौरी खाना मत भूलिएगा। सन् 1805 से चली आ रहीं रह दुकान मीठा खाने वाले शौकिन लोगों के लिए एक बहुत हीं अच्छी जगह है। यहां आपको बहुत तरह की मिठाईयां मिल जाती है, लेकिन अगर आपने यहां पर मलाई गिलौरी नहीं खाई, तो आप लखनऊ में आकर एक भूल कर रहे हैं। यह मिठाई मलाई की कई सारी परतों से बनी होती है। फिर इसमें केसर, कटा हुआ पिस्ता और ड्राइफ्रूट डाला जाता है और फिर इसे चारों तरफ से दबाकर पैक कर दिया जाता है। देखने में यह पान जैसी लगती है, इसलिए इसे मलाई पान भी कहा जाता है। अगर आप लखनऊ आएं हैं, तो इस मिठाई को एकबार जरूर चखना चाहिए।

पंडित राजा की ठंडाई

Pandit Raja ki thandai
फोटोवर्तमान समाचार

यदि भरचक गर्मी पड़ रहीं हों और आप चौक चौराहे के आसपास हीं कहीं है, तो आप पंडित राजा की ठंडाई को जरूर ट्राइ करिए। सन् 1936 से चली आ रही पंडित राजा की मशहूर ठंडाई एक छोटी सी दुकान में चलाई जाती है। पहले यहां पर बैठकर बड़े – बड़े नेता अपनी राजनीतिक रणनीति की चर्चा करते थे। यहां की ठंडाई बेहद मशहूर होने के साथ इसे पीने के लिए दुनिया भर से लोग आते हैं। पंडित राजा की ठंडाई की बात करें तो यहां पर भांग वाली ठंडई की डिमांड बहुत होती है, जिसे बनाने के लिए उच्च गुणवत्ता वाली भांग का उपयोग किया जाता है। सालों से चली आ रहीं पंडित राजा की इस दुकान में उनकी तीसरी पीढ़ी काम कर रहीं है।

अजहर भाई का पान

Azhar Bhai Ka Paan
फोटोवर्तमान समाचार

लखनऊ में आपको खाना तो नवाबी ढंग से खिलाया जाता है, लेकिन खाने के बाद परोसा जाने वाला पान भी आपको एकदम नवाबी ही मिलेगा। लखनऊ के चौक में स्थित अजहर भाई की पानी की दुकान में आपको पान की इतनी वैरायटी देखने को मिल जाएगी, जितनी आपने पहले कभी देखी नहीं होगी। यहां आपको बिमारियों से बचाने वाला औषधीय पान, बेगम का पसंदीदा स्पेशल पान, बिरयानी पान, पलंग तोड़ पाना जैसी काफी सारी वैरायटी का पान आपको मिल जाएगा। 82 साल पुरानी हो चुकी इस पान की दुकान में आपको कुल 52 तरह की वैरायटी वाले पान मिल जाएंगे। इस पान को खाने वाले दिवानों की लिस्ट में अभिताभ बच्चन से लेकर तो सैफ अली खान तक शामिल हैं।

रॉयल कैफे की टोकरी चाट

Royal Cafe Chaat
फोटोवर्तमान समाचार

हम भारतीय कहीं भी जाते हैं, तो चटपटा खाना पहले ढूंढते हैं। अगर बात लखनऊ की हो और चटपटे का नाम ना आएं, ऐसा तो हो हीं नहीं सकता। लखनऊ के रॉयल कैफे की कटोरी चाट इतनी ज्यादा फेमस है कि आपको यहां पर लाइन लगानी पड़ सकती है। 1992 से चली आ रहीं इस दुकान का संचालन हरदयाल जी मौर्य करते हैं, जिन्हें चाट किंग के नाम से भी जाना जाता है और यह यूट्यूब पर भी काफी ज्यादा फेमस है। चाट कचौरी में आलू टिक्की, मसाला, प्याज, इमली और पुदीने की चटनी और दही से पूरा कटोरा सारोबार रहता है, जिसमें आप कटोरे को भी खा सकते हैं। इस पूरी चाट का मूख्य स्वाद इनकी हाजमोला चटनी है, जो कि आपके हाजमे को भी दुरुस्त रखती है। इस कटोरा चाट की कीमत 200 रूपये होती है‌।

शर्मा जी की चाय

Sharma Ji Ki Chai
फोटोवर्तमान समाचार

लखनऊ में आएं हो तो शर्मा जी का चाय को‌ जरूर टेस्ट करिएगा‌‌। लखनऊ की पिछले 68 सालों से चली आ रहीं यह दुकान यहां से गुजरने वाले राहगीरों को अपनी भीनी भीनी खुशबू से अपनी ओर आकर्षित कर‌ लेती है। छोटी उम्र से लेकर तो बड़ी उम्र तक के लोगों को यह चाय काफी पसंद आती है। यह दुकान सिर्फ चाय के लिए हीं फेमस नहीं है अपितु यहां का गोल समोसा और बंद मक्खन भी लोगों के बीच बहुत पसंद है और इन्हें चाव के साथ खाया जाता है‌। हजरतगंज में बनी इस छोटी सी दुकान की शुरुआत वर्ष 1959 में यहां के संचालक गोपाल शर्मा के पिताजी ने की थी। लखनऊ के लोग तो ठीक बड़े-बडे अभिनेता और राजनीतिक व्यक्ति भी इनकी चाय के दिलाने है। इनकी चाय को पीने के लिए कल्याण सिंह, अटल बिहारी वाजपेई, मुलायम सिंह यादव जैसे दिग्गज नेता और शाहिद कपूर, अनन्या कपूर जैसी महान हस्तियां भी यहां की चाय की चुस्की ले चुके हैं।

रत्तीलाल का खस्ता

Rattilals
फोटोवर्तमान समाचार

लखनऊ में यदि आपकी चटोरी जुबान को कुछ खस्ता खाने का मन हो, तो आप रत्तीलाल की खस्ता कचौड़ी का भी आनंद ले सकते हैं। लखनऊ के अमीनाबाद में स्थित यह दुकान 1937 से चलाई जा रही है और आज भी इसका स्वाद वैसा का वैसा हीं है। जब यह कचौड़ी आप खाते हैं, तो मुंह में एकदम क्रंच वाली फीलिंग आपको देती है। यहां पर खस्ता – कचौड़ी आपको आलू का सब्जी, इमली-पुदीना की चटनी और हरी मिर्च के साथ परोसी जाती है। रत्तीलाल की खस्ता-कचौडी का आलम यह है कि सुबह दुकान खुलने के दो – तीन घंटों के भीतर हीं सारी खस्ता कचौड़ी बिक जाती है और कभी-कभी तो आलम यह रहता है कि आपको लाइन में भी लगना पड़ सकता है। साल के सभी मौसम में आपको यहां पर भीड़ हमेशा दिखाई देगी।

बाजपेयी कचौड़ी भंडार

Vajpayee Kachori
फोटोवर्तमान समाचार

जब लखनऊ में शाकाहारी स्ट्रीट फूड में कुछ खाना हो तो आप बाजपेयी की कचौड़ी का स्वाद जरूर लीजिएगा। बाजपेयी की कचौड़ी पूरे लखनऊ में बहुत प्रसिद्ध है और लोग यहां पर बाहर से भी खाने के लिए आते हैं। 1975 से चली आ रहीं इस दुकान के स्वाद की तारीफ करते लोग नहीं रखते हैं। यहां पर 30 रूपये में आपको कचौड़ी की प्लेट मिल जाती है। जब भी आप यहां कचौड़ी लेने आएंगे, आपको यहां पर हर समय भीड़ मौजूद दिखाई देगी।

कचौड़ी के साथ दी जाने वाली आलू की सब्जी भी बहुत स्वादिष्ट होती है और इनके यहां के छोले भटूरे भी काफी ज्यादा फेमस है। हल्की सी तीखी होने के साथ यह कचौड़ी इतनी नर्म होती है कि आप आसानी से इसे तोड़ सकते हैं, स्वाद में तो यह जायकेदार है हीं सही।

चलिए ऊपर तो बात हो गई कि लखनऊ में कौन-कौन सी मिठाईयां, शाकाहारी स्ट्रीट फूड प्रसिद्ध है, अब बात कर लेते हैं कि लखनऊ नॉनवेज के जायके में क्या पसंद करता है।

टुंडे के कबाब (नॉनवेज)

Tunday Kababi
फोटोवर्तमान समाचार

जब भी आप लखनऊ जाओ और वहां पर किसी से नॉनवेज की फेमस डिश का नाम पूछेंगे, तो सभी टुंडे कबाब की ही बात करेंगे। टुंडे कबाब लखनऊ हीं नहीं बल्कि भारत के कोने -कोने में प्रसिद्ध हो गया है। जब भी कोई बड़ा व्यक्ति यहां पर आता है तो वह नॉनवेज में टुंडे कबाब चखना नहीं भूलता है। सन् 1905 में लखनऊ के चौक इलाके से शुरू हुई इस दुकान के आज पूरे लखनऊ में 8 आउटलेट्स है और सभी आउटलेट्स का स्वाद भी एक जैसा ही है।

इस कबाब में कुल 150 से भी अधिक मसाले डलते है, जिससे इसका स्वाद हीं लाजवाब हो जाता है। नवाबों के समय से चला आ रहा टुंडे कबाब का स्वाद आज भी वैसा के वैसा हीं है। इसकी शुरुआत यहां के पूर्व संचालक हाजी मुरीद ने की थी और आज उनकी तिसरी पीढ़ी यह बिजनेस संभाल रही हैं।

वाहिद की बिरयानी (नॉनवेज)

Wahid Biryani
फोटोवर्तमान समाचार

नॉनवेज के शौकीन लोगों के लिए लखनऊ में वाहिद की बिरयानी को जरूर ट्राई करना चाहिए। यह बिरयानी पूरे लखनऊ में ‘ द रियल टेस्ट ऑफ अवध ‘ के नाम से प्रसिद्ध है। बिरयानी के मामले में आपने हैदराबाद का नाम तो सुना ही होगा, लेकिन लखनऊ की यह बिरयानी आपको एक अलग स्वाद प्रदान करती है। 1955 से शुरू हुई इस दुकान का स्वाद बड़ी-बड़ी हस्तियां ले चुकी है।

यह बिरयानी हैदराबादी बिरयानी की तरह ज्यादा मसालेदार नहीं होती है, लेकिन इसकी मंद-मंद खुशबू और हल्का मसाला इसे अलग हीं स्वाद प्रदान करता है। यहां पर आपको मटन और चिकन की 40 से भी ज्यादा वैरायटी मिल जाती है। बिरयानी के अलावा यहां पर कलेजी रोल, शामी कबाब रोल, गलावटी कबाब रोल को खाने के लिए भी बहुत लोग आते हैं।

रहीम की कुलचा निहारी (नॉनवेज)

Raheems Kulcha Nihari
फोटो वर्तमान समाचार

नवाबों के समय से प्रसिद्ध कुलचा निहारी को लखनऊ में बहुत खाया जाता है। इस डिश को सबसे पहले नवाबों की रसोई में बनाया गया था।  यह 110 साल पुरानी डिश है, जो लखनऊ के रहीम निहारी रेस्टोरेंट पर जो निहारी बनाई जाती है, वैसी आपको कहीं ओर नहीं मिल पाएगी। निहारी को बीफ और मटन दोनों में बनाया जाता है और इसका गोश्त इतना सॉफ्ट होता है कि मुंह में रखते हीं यह घुल जाता है। इस निहारी को कुलचे के साथ खाया जाता है।

रहीम निहारी रेस्टोरेंट पर कुलचा निहारी इतनी प्रसिद्ध है कि आपको रविवार के दिन तो यहां पर खड़े रहने की जगह नहीं मिलेगी। यह रेस्टोरेंट सुबह 8:00 बजे से खुलता है और रात के 2:00 बजे तक चलता है।

दस्तरख्वान

Dastarkhwan
फोटोवर्तमान समाचार

लखनऊ में अगर आपने अवध के नॉनवेज चख रखें है, तो कुछ नयापन में आप मुगलई जायका भी ट्राई कर सकते हैं। लखनऊ में नॉनवेज के मशहूर रेस्टोरेंट दस्तरखान पर आपको तमाम तरीके के नानवेज मिल जाते है, यह मांसाहारी लोगों के लिए एक फेमस जगह भी है। दस्तरखान में आपको गलावटी कबाब, मटन रोगन गोश्त, शीरमल, मटन बिरयानी जैसे तमाम नानवेज उपलब्ध है।

आप परिवार के साथ भी यहां के नॉनवेज जायकों को लुत्फ उठा सकते हैं। यह लालबाग के पास स्थित होने के साथ आपको खाने में भी बढ़िया टेस्ट देता है। इस रेस्टोरेंट का समय सुबह 12:00 बजे से रात की 10:00 बजे तक का है। तो दोस्तों अगर आप भी नवाबों की नगरी लखनऊ आएं हैं, तो यहां के नवाबी खानों और स्ट्रीट फूड्स का लुत्फ जरूर उठाइएगा। अगर आपको हमारी यह पोस्ट पसंद आई हो, तो आप हमें कमेंट करके जरूर बताइएगा कि आपको लखनऊ का स्वाद कैसा लगा, साथ हीं अपने दोस्तों और परिवार के लोगों के बीच यह जानकारी जरूर शेयर कीजिए।

Show More

Related Articles

Back to top button