22 वर्ष पुराने रिश्ते की डोर टूटी, परिवहन मंत्री दयाशंकर सिंह ने दिया स्वाति सिंह को तलाक। वर्तमान समाचार

उत्तर प्रदेश सरकार में परिवहन मंत्री दयाशंकर सिंह और महिला कल्याण मंत्री स्वाति सिंह के 2022 के विधानसभा चुनाव में शुरु हुई तकरार को आखिरकार एक अंत मिल ही गया। परिवहन मंत्री दया शंकर सिंह और पत्नी स्वाती सिंह के बीच आज तलाक हो गया। दोनों के बीच विवाद 2022 मे शुरु हुआ था। दरहसल स्वाति सिंह सरोजनीनगर सीट से चुनाव लड़ना चाहती थीं मगर बीजेपी ने यहां से बृजेश पाठक को खड़ा किया था। तो दूसरी ओर पति दयाशंकर सिंह बलिया से विधानसभा चुनाव लड़कर जीत भी गए। इसी के बाद से दोनों के बीच दूरियां बढ़ती चली गईं।

Dayashankar Singh Vartman Samachar min
दयाशंकर सिंह और स्वाति सिंह

पारिवारिक न्यायालय में हुई सुनवाई।

बता दें कि तलाक की अर्जी कोर्ट में 30 दिसंबर 2022 को महिला कल्याण मंत्री स्वाति सिंह द्वारा दी गई थी। जिसपर सुनवाई करते हुए पारिवारिक न्यायालय में न्यायमूर्ती  देवेंद्र नाथ सिंह की बेंच ने फैसला सुनाया। इस पूरे मामले पर पारिवारिक न्यायालय ने सुनवाई करते हुए तलाक को मंजूरी दे दी है।

स्वाति सिंह ने 2017 में पहली बार राजनीति में रखा था कदम।

साल 2017 में स्वाति सिंह ने पहली बार राजनीति में कदम रखा था। लखनऊ की सरोजनी नगऱ विधानसभा सीट से उन्होंने पहली बार चुनाव लड़ा और जीतीं भी। उनके पति दयाशंकर सिंह हर जगह उनके साथ खड़े दिखाई देते थे। लेकिन साल 2022 में तल्खियां दोनों के बीच कब बढ़ गईं पता ही नहीं चला। पारिवारिक सूत्रों का कहना है कि जब 2022 विधानसभा चुनावों मे दयाशंकर सिंह ने स्वाति सिंह के टिकट का विरोध करते हुए खुद टिकट मांगा तब यह विवाद और बढ़ गया। बीजेपी ने एक व्यक्ती एक टिकट के सिद्धांत को आगे रखते हुए स्वाति सिंह का टिकट सरोजनीनगर सीट से काट दिया और दया शंकर सिंह को बलिया से टिकट दे दिया गया। जिसके बाद दया शंकर सिंह बलिया से बीजेपी के टिकट पर चुनाव जीतने के बाद सरकार में परिवहन राज्य मंत्री बने। दोनों पति-पत्नी उत्तर प्रदेश सरकार में मंत्री हैं, और दोनों के दोनों एक ही सीट से चुनाव लड़ना चाहते थे और आपसी टकराव के चलते स्वाति सिंह का टिकट कट गया। बीजेपी ने सरोजनीनगर से स्वाति सिंह का टिकट काट बृजेश पाठक को टिकट दे दिया और दयाशंकर सिंह को बलिया से टिकट मिल गया। जिसके बाद दोनों के बीच तकरार बढ़ती चली गई।

Show More

Related Articles

Back to top button