Operation Kaveri:पोर्ट सूडान से भारतीयों का तीसरा जत्था पहुंचा जेद्दा। वर्तमान समाचार

भारत सरकार द्वारा चलाए गए ऑपरेशन कावेरी में सूड़ान से एक बार फिर 135 भारतीयों के तीसरे जत्थे को भी निकाला जा चुका है। बता दें कि फिलहाल सूडान में देश की सेना और विद्रोही RAF के बीच संघर्ष छिड़ा हुआ है। जिस कारण सूडान गंभीर हिंसा से प्रभावित है। भारतीय वायुसेना के  C-130J विमान पोर्ट सूडान से 135 भारतीयों को लेकर बुधवार तड़के सऊदी अरब के शहर जेद्दा पहुंचा। भारत के विदेश मंत्रालय ने ट्वीट कर जानकारी दी कि “सरकार जल्द ही इन भारतीय नागरिकों की देश वापसी की यात्रा को सुगम बनाएगी”। “पोर्ट सूडान से 135 भारतीयों का तीसरा जत्था IAF C-130J विमान से जेद्दा पहुंचा। जेद्दा पहुंचे सभी लोगों के लिए भारत की आगे की यात्रा शीघ्र ही शुरू होगी”।

क्यों जंग का मैदान बना सूडान?

सूदान 2019 के सत्ता परिवर्तन के बाद से एक अशांत देश बना हुआ है। दरहसल, सूडान में यह जंग सत्ता मे बैठे दो मिलट्री समूहों की है जिसमें एक तरफ देश की सेना है, तो दूसरी ओर RAF नाम का एक पैरामिलीट्री समूह जो सेना के साथ ही सत्ता में बैठा भी है। सूडान में सेना का मिलिट्री कू 2019 में हुआ था, जिसके बाद 2021 से सूडान मे काउंसिल ऑफ जनरलों का ही शासन है। दो सैन्य जनरल “जनरल अब्देल फतह अल-बुरहान” जो देश के राष्ट्रपति होने के साथ-साथ सना के अध्यक्ष भी हैं। और “जनरल मोहम्मद हमदन दगालो” जो पैरामिलिट्री समूह RAF के अध्यक्ष और सत्ता में अहम योगदान रखते हैं उनके बीच के मतभेदों के चलते शुरु हुए संघर्ष का नतीजा है। यही वजह है कि देश धीरे-धीरे ग्रह युद्ध में घिरता चला जा रहा है। अबतक सेना और RAF की इन झड़पो में लगभग 250 लोग मारे जा चुके हैं और 2600 घायल हो गए हैं।

Show More

Related Articles

Back to top button