नगर निकाय चुनाव: सपा और रालोद के बाद अब बीजेपी और निषाद पार्टी में तकरार। वर्तमान समाचार

निकाय चुनाव: निकाय चुनाव के चलते उत्तर प्रदेश की राजनीतिक सरज़मि धीरे-धीरे गर्म होती जा रही है तो वहीं दूसरी ओर गठबंधन में चल रही पार्टीयों में आपस में भी गर्मी बढ़ती जा रही है। जहां पश्चमी उत्तर प्रदेश में सपा और रालोद अब कुछ सीटों पर आमने सामने चुनाव लड़ने जा रहीं हैं तो वहीं दूसरी ओर भारतीय जनता पार्टी और निषाद पार्टी पूर्वांचल में कई सीटों पर आमने सामने चुनाव लड़ेंगी। दोनों ही पार्टीयां उत्तर प्रदेश विधानसभा में एक दूसरे के सहयोगी हैं। लेकिन नगर निकाय चुनाव में अब प्रतिद्वंदी बन चुके हैं। दरहसल पूर्वांचल के कई जिलों मे निषाद पार्टी ने अपने प्रत्याशी भाजपा के खिलाफ उतारे हैं। मसलन, भाजपा ने बहराइच से सुधा टेकढ़ीवाल को उतारा है। जो बीजेपी जिला अध्यक्ष की पत्नी भी हैं। वहीं निषाद पार्टी ने उनके खिलाफ पूजा निषाद को उतारा है। मसलन, बहराइच नगर पालिका में बीजेपी से सुधा टेकड़ीवाल प्रत्याशी हैं. सुधा बीजेपी जिला अध्यक्ष की पत्नी हैं। निषाद पार्टी ने पूजा निषाद को मैदान में उतारा है। हालांकि निषाद पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष रवींद्र मणि निषाद सीधे तौर पर कुछ न कहते हुए सफाई दे रहे हैं कि गठबंधन में चुनाव लड़ने के लिए नाम भेजे गए थे। लेकिन इन्हें जगह न मिलने के बाद प्रत्याशी उतारे गए हैं। हालांकि नगर निगम मेयर प्रत्याशी की सीटों पर कोई उम्मीदवार नहीं उतारा गया है। उधर, समाजवादी पार्टी और राष्ट्रीय लोकदल में भी निकाय चुनाव को लेकर तलवारें खिंचती नजर आ रही हैं। बागपत, सहारनपुर, शामली और मेरठ में रालोद के प्रभाव वाले इलाकों में सपा प्रत्याशी उतारे जाने से तनातनी बढ़ी है। मेरठ और सहारनपुर नगर निगम में समाजवादी पार्टी के प्रत्याशियों की घोषणा हो गई है। बागपत की खेकड़ा सीट और ऐसी ही कुछ अन्य नगरपालिका में भी सपा के उम्मीदवार उतारे जाने से असहज स्थिति बनती नजर आ रही है।

Show More

Related Articles

Back to top button