नगर निकाय चुनाव 2023: सपा ने कसी कमर, भाजपा का दबदबा कम करने पर केंद्रित। वर्तमान समाचार

अगामी नगर निकाय चुनावों के मद्देनजर समाजवादी पार्टी ने कमर कस ली है। इस बार पार्टी 2023 नगर निकाय चुनावों के साथ-साथ 2024 में होने वाले लोकसभा चुनावों की तैयारी में भी अभी से लग गई है। निकाय चुनावों के जरिये समाजवादी पार्टी छोटे शहरों में पकड़ पहले से और मजबूत बनाना चाहती है। इसी के आधार पर समाजवादी पार्टी लोकसभा चुनावों को भी साधने की तैयारी में है। पिछले नगर निकाय चुनावों में समाजवादी पार्टी का प्रदर्शन काफी खराब था, उसे एक भी मेयर की सीट नहीं मिली थी। इस बार पार्टी कोई गलती नहीं करना चाहती है, इसीलिए वे छोटे शहरों के साथ बड़े शहरों पर भी ध्यान दे रही है।

Nagar Nikay CHUNAW Vartman Samachar
उत्तर प्रदेश नगर निकाय चुनाव।

निकाय चुनावों के जरिए लोकसभा पर है ध्यान।

नगर निगम के चुनावों के जरिये समाजवादी पार्टी अगले वर्ष होने वाले लोकसभा कि चुनावी बिसात अभी से तैयार करने में लग गई है। पार्टी का मानना है कि नगर निकाय चुनावों में अच्छे प्रदर्शन से कार्यकर्ताओं का मनोबल और उत्साह बढ़ेगा, जिसका असर अगामी लोकसभा चुनाव पर पड़ेगा। बता दें कि उत्तर प्रदेश के 760 नगरीय निकायों मे चुनाव होने जा रहे हैं। जिनमे से 17 नगर निगम 199 नगर पालिका और 544 नगर पंचायतें शामिल हैं। जिसके मद्देनज़र समाजवादी पार्टी शहरी मतदाताओं मे अपनी पकड़ मजबूत करना चाहती है। इस बार के नगर निकाय चुनावों के लिए पार्टी साफ सुथरी छवि और पढ़े लिखे उम्मीदवारों की तलाश में है। 2017 के नगर निकाय चुनावों मे सपा का प्रदर्शन बहुत खराब था। जहां भारतीय जनता पार्टी को 16 नगर निगमों में से 14 सीटें मिली थीं तो वहीं 2 सीटें बसपा के खाते में आई थीं और समाजवादी पार्टी को एक भी सीट नहीं मिली थी। इस बार इसी दबदबे को खत्म करने के लिए समाजवादी पार्टी अभी से लग गई है, और लोगों तक भारतीय जनता पार्टी की नाकामयीयां पहुंचाने मे लग गई है। पार्टी ने जन संपर्क प्रोग्राम भी शुरु कर दिया है। इसी के साथ-साथ बूथ कमेटियां भी तैयार की जा रही हैं। प्रत्याशियों के चयन की प्रक्रिया भी शुरु कर दी गई है।

Show More

Related Articles

Back to top button