अनंतनाग मुठभेड़: 4 सुरक्षाकर्मी शहीद, 2 आतंकवादी अभी भी फंसे हुए हैं | वर्तमान समाचार

दक्षिण कश्मीर के अनंतनाग जिले में सुरक्षा बलों और कथित लश्कर-ए-तैयबा (एलईटी) के आतंकवादियों के बीच भीषण गोलीबारी चल रही है, जो अब 48 घंटे से अधिक समय से चल रही है। अब तक कम से कम चार सुरक्षाकर्मियों की जान जा चुकी है और चार आतंकवादी मारे गये हैं। जंगल में कम से कम दो आतंकियों के फंसे होने की खबर है।

अब तक हम यही जानते हैं

कोकेरनाग इलाके में आतंकियों के ठिकानों पर हमले के लिए सुरक्षा बल ड्रोन का इस्तेमाल कर रहे हैं। आतंकियों को एक ठिकाने पर घेर लिया गया है। सुबह 11 बजे आतंकियों से संपर्क स्थापित हुआ। सुरक्षा बलों के घेरे को फिर से व्यवस्थित किया गया है।

शुक्रवार को एक और सुरक्षाकर्मी जान चली गई, जिससे उनकी संख्या चार हो गई। पहचान अभी उजागर नहीं की गई है।

डीएसपी मुहम्मद हमायूं मुजामिल भट और कर्नल मनप्रीत सिंह को गुरुवार को सुपुर्द-ए-खाक कर दिया गया। मेजर आशीष धोनैक का शुक्रवार को पूरे राजकीय सम्मान के साथ अंतिम संस्कार किया गया।

जम्मू में लश्कर आतंकवादियों द्वारा चार सुरक्षाकर्मियों की हत्या के विरोध में गुरुवार को शहर के विभिन्न हिस्सों में पाकिस्तान विरोधी प्रदर्शन हुए।

मंगलवार देर रात सेना और पुलिस ने आतंकियों की तलाश के लिए संयुक्त तलाशी अभियान चलाया। बुधवार तड़के भीषण गोलीबारी हुई।

कर्नल मनप्रीत सिंह, मेजर आशीष धोनक और जम्मू-कश्मीर पुलिस के उपाधीक्षक हुमायूं भट ने लश्कर-ए-तैयबा (एलईटी) के आतंकवादियों के हमले में बलिदान दिया है।

बुधवार (13 सितंबर) को अनंतनाग जिले के कोकेरनाग इलाके में आतंकियों के साथ भीषण मुठभेड़ शुरू हुई थी।

Show More

Related Articles

Back to top button