महाराष्ट्र मानसून: भारी बारिश के कारण कई जिलों में बाढ़ जैसी स्थिति पैदा होने से 72 लोगों की मौत| वर्तमान समाचार

महाराष्ट्र के कई हिस्सों में पिछले कुछ दिनों से लगातार भारी से बहुत भारी बारिश हो रही है, जिससे राज्य में बाढ़ जैसी स्थिति पैदा हो गई है, जिससे लोगों का सामान्य जीवन अस्त-व्यस्त हो गया है। राज्य भर में लगातार बारिश से अब तक 72 लोगों की मौत हो चुकी है।

आधिकारिक आंकड़ों के मुताबिक, 1 जून 2023 से अब तक राज्य में कम से कम नौ लोग लापता हैं और 93 लोग घायल हुए हैं।

पालघर जिले के वसई इलाके में भीषण जलभराव के कारण लोगों की रोजमर्रा की जिंदगी ठप हो गई है। सड़क पर खड़े वाहन बारिश के पानी में डूब गए हैं और राहगीरों को पानी से भरी सड़कों से होकर गुजरना पड़ रहा है। बारिश के पानी के कारण कई गाड़ियां भी क्षतिग्रस्त हो गईं।

इस बीच, पुलिस ने शनिवार को समाचार एजेंसी पीटीआई को बताया कि महाराष्ट्र के ठाणे जिले में एक 23 वर्षीय व्यक्ति की मोटरसाइकिल गड्ढे में टकराने के बाद कंक्रीट मिक्सर ट्रक के कुचलने से मौत हो गई। पुलिस ने बताया कि मृतक सूरज गवरी एक गड्ढे से बचने की कोशिश में वाहन का संतुलन खो बैठा और सड़क पर गिर गया, तभी एक तेज रफ्तार कंक्रीट मिक्सर ट्रक उसके ऊपर से गुजर गया।

भारत मौसम विज्ञान विभाग ने 21 जुलाई को आज के लिए ठाणे, रायगढ़, पुणे और पालघर (भारी से बहुत भारी वर्षा) के लिए रेड अलर्ट जारी किया। मुंबई और रत्नागिरी के लिए ‘ऑरेंज’ अलर्ट भी जारी किया गया है। इस बीच, आईएमडी ने लगातार हो रही इस बारिश के कारण कोल्हापुर जिले के लिए अगले 5 दिनों के लिए ऑरेंज अलर्ट जारी किया है।

ठाणे, पालघर, रायगढ़, रत्नागिरी, कोल्हापुर और सांगली में मूसलाधार बारिश से निपटने के लिए एनडीआरएफ की टीमें भी तैनात की गई हैं। इससे पहले 19 जुलाई को महाराष्ट्र के रायगढ़ जिले के इरशालवाड़ी गांव में भारी भूस्खलन हुआ था, जिसमें अब तक कम से कम 22 लोगों की मौत हो चुकी है। मुंबई से लगभग 80 किमी दूर स्थित खालापुर तहसील के अंतर्गत एक पहाड़ी ढलान पर स्थित आदिवासी गांव में भूस्खलन हुआ। 86 ग्रामीणों का पता लगाने के लिए खोज एवं बचाव अभियान जारी है।

Show More

Related Articles

Back to top button