यूपी: पेड़ काटने का विरोध करने पर दलित युवक का काटा गया गुप्तांग दो गिरफ्तार| वर्तमान समाचार

उत्तर प्रदेश के एटा जिले में एक 32 वर्षीय दलित व्यक्ति को बेरहमी से पीटा गया और कथित तौर पर उच्च जाति के पुरुषों द्वारा उसके गुप्तांगों को काट दिया गया क्योंकि उसने उसकी जमीन पर पेड़ गिरने से  “आपत्ति” जताई थी। पीड़ित सतेंद्र कुमार ने कहा कि उसके चार महीने की गर्भवती पत्नी को भी “कुल्हाड़ी से मारा और बुरी तरह पीटा”।

शिकायतकर्ता, जो अभी भी सदमे में है, ने दावा किया कि “उसके गुप्तांग के आधे से अधिक व्यास को काट दिया गया था”।

घटना के दो दिन बाद 16 जून को दो आरोपियों विक्रम सिंह ठाकुर और सतेंद्र उर्फ ​​भूरे ठाकुर के खिलाफ आईपीसी और एससी/एसटी (अत्याचार निवारण) अधिनियम की धाराओं के तहत प्राथमिकी दर्ज की गई थी।

कोतवाली देहात के एसएचओ शंभूनाथ सिंह ने कहा, “दो आरोपी फरार हैं और उन्हें पकड़ने के प्रयास जारी हैं “।

पीड़ित, जो की दो बच्चों के पिता हैं, ने कहा, “14 जून को ऊंची जाति के लोग मेरी जमीन पर एक पेड़ काट रहे थे। जब मैंने आपत्ति की, तो उन्होंने मुझे गालियां दीं और जातिसूचक गालियां भी दीं। फिर विक्रम और भूरे ने मुझे पकड़ लिया और बेरहमी से मेरी पिटाई की। विक्रम ने चाकू निकाला और मेरे प्राइवेट पार्ट को काटने की कोशिश की, जिसमें काफी कट लग गया। डॉक्टरों को घाव पर 12 टांके लगाने पड़े”।

“मदद के लिए मेरी चीख सुनकर, मेरी चार महीने की गर्भवती पत्नी दौड़ी भूरे ने उस पर कुल्हाड़ी से हमला किया, जिससे उसकी बाईं कलाई में चोट लग गई। आरोपी ने हमारा पीछा किया  और मेरे घर में घुस गये और मेरी पत्नी को बेरहमी से पीटा, जबकि मेरा खून बह रहा था और मै रहम की गुहार लगा रहा था। जाने से पहले, उन्होंने हमें पुलिस को फोन करने पर जान से मारने की धमकी दी ।

डीएसपी विक्रांत द्विवेदी ने कहा, उनके प्राइवेट पार्ट पर चाकू से वार करने का आरोप गलत है । हाथापाई के दौरान चमड़ी फट गई थी । मेडिकल जांच से पता चला है कि लिंग अलग नहीं हुआ था । “ पूरे मामले की जांच की जा रही है”।

Show More

Related Articles

Back to top button