उत्तर प्रदेश: विधान परिषद उप चुनाव ने खोला लोकसभा चुनाव के गठबंधन का रास्ता। वर्तमान समाचार

विधान परिषद उप चुनाव से प्रदेश में लोकसभा चुनाव के गठबंधन की तस्वीर साफ हो गई है। परिषद की दो सीटों पर सोमवार को हुए उप चुनाव में भाजपा और सपा अपने अपने गठबंधन के सहेजने में सफल रहे। वहीं सुभासपा के विधायकों ने भाजपा प्रत्याशियों के पक्ष में मतदान करने से लोकसभा चुनाव में एक बार फिर सपा और भाजपा का गठबंधन होने का संकेत मिल गया। विधान परिषद उप चुनाव में भाजपा गठबंधन के पास 274 मत थे। जबकि भाजपा के प्रत्याशी पदमसेन चौधरी को 279 और मानवेंद्र सिंह को 280 मत मिले हैं। उप चुनाव में क्रॉस वोटिंग रोकने के लिए लंबी मशक्कत के बाद पार्टी ने आखिरकार अपने वोट बैंक को सहेजे रखने में सफलता प्राप्त की। सपा और सुभासपा गठबंधन टूटने के बाद से सुभासपा का एक बार फिर भाजपा से गठबंधन होने के अटकलें लग रही थी। उप चुनाव में मतदान से पहले भले ही सुभासपा अध्यक्ष ओमप्रकाश राजभर ने मतदान को गुप्त बताते हुए पत्ते नहीं खोले। लेकिन उप मुख्यमंत्री ब्रजेश पाठक के हाथ में हाथ मिलाकर बाहर निकलते समय संकेत मिल गया था कि सुभासपा ने भाजपा को समर्थन किया है। सुभासपा के छह में से एक विधायक अब्बास अंसारी जेल में बंद हैं। सुभासपा के चार विधायकों ने भाजपा के प्रत्याशियों के समर्थन में मतदान किया। उप चुनाव में सुभासपा के भाजपा को समर्थन करने से साफ हो गया है कि लोकसभा चुनाव में सुभासपा एक बार फिर एनडीए का हिस्सा बनेगी। वहीं चर्चा है कि जनसत्ता दल लोकतांत्रिक के विधायक रघुराज प्रताप सिंह उर्फ राजा भैया और विनोद सरोज ने भी भाजपा प्रत्याशियों के पक्ष में मतदान किया। इस तरह भाजपा के प्रत्याशियों को मिले मतों की संख्या 280 तक पहुंची हैं। लोकसभा चुनाव में भी भाजपा के सहयोगी अपना दल और निषाद पार्टी एनडीए में ही रहेंगे।उधर, सपा गठबंधन के पास 118 विधायक हैं। इसमें से इरफान सोलंकी और रमाकांत यादव जेल में हैं। जबकि मनोज पारस बीमार होने के कारण मतदान करने नहीं पहुंचे। इस हिसाब से सपा गठबंधन के पास 115 विधायकों के मत ही थे। सपा के रामजतन राजभर को 115 और रामकरन निर्मल को 116 वोट मिले हैं। वोटों के गणित से साफ है कि सपा गठबंधन ने सत्ता पक्ष की तमाम कोशिश के बावजूद अपने खेमे में सेंध नहीं लगने दी। रामकरन निर्मल को एक मत ज्यादा मिलने से कयास लगाए जा रहे हैं कि सुभासपा के एक विधायक का मत भाजपा को मिला है। यह विधायक मूलतः सपा के ही हैं, लेकिन विधानसभा चुनाव में सुभासपा के सिंबल पर चुनाव लड़े थे। उन्होंने अंतरात्मा की आवाज सुनकर सपा को वोट किया। उप चुनाव से संकेत मिलता है कि सपा और रालोद का गठबंधन लोकसभा चुनाव तक बदस्तूर जारी रहेगा।

Show More

Related Articles

Back to top button